Home Real Life Stories सफलता के लिए ज़रूरी है Focus !

सफलता के लिए ज़रूरी है Focus !

159
0
SHARE

ऐसा  क्यों  होता  है  कि  कई बार  सब  कुछ  होते  हुए  भी  हम  वो  नहीं  कर  पाते  जिसको  करने  के  बारे  में   हमने  सोचा  होता  है ….दृढ  निश्चय  किया  होता ……खुद  को  promise किया  होता  है  कि  हमें  ये  काम  करना  ही  करना  है …चाहे  जो  हो  जाए ….!!!

“सब  कुछ  होते  हुए” से  मेरा  मतलब  है  आपके  पास  पर्याप्त  talent, पैसा ,  समय , या  ऐसी  कोई  भी  चीज  जो  उस  काम  को  करने  के  लिए  ज़रूरी  है ;  होने  से  है .

2009-10 में  मैंने  अपने  दोस्तों  के  साथ  मिल  कर  Bodhitree Consulting Group (BCG) की  शुरुआत  की  थी , इसके  अंतर्गत  हमने  कुछ  Personality Development ओर  Quizzing से  related programs भी  किये , जो  काफी  पसंद किये  गए ,….पर  within 6-7 months BCG को  बंद  करना  पड़ा .

आज  जब  मैं  इस  बारे  में  सोचता  हूँ  कि  आखिर  BCG क्यों  unsuccessful रहा  …तो  मुझे  ऐसी  कोई  वजह  नहीं  दिखती  जो  इस  ओर  इशारा  करे  की  हमारे  team में  Talent, Time , या  पैसे  की  कमी  थी ….हमारे  अन्दर  जोश  भी  काफी  था ….पर  फिर  भी  हम  इस  venture को  successful नहीं  बना  पाए .

तो  आखिर  वजह  क्या थी ?

वजह  थी  FOCUS.

चूँकि  BCG शुरू  करने  का  initiative मेरा  ही  था  इसलिए  मुझे  इसपर  पूरी  तरह  से  अपना  ध्यान  केन्द्रित  करना  चाहिए  था …..पर  मैं  उस  वक़्त   अपनी  Tata Aig की  जॉब  में  इतना  अधिक  involve था  कि  मैं  BCG पर focus नहीं  कर  पाया …और  सबकुछ  होते  हुए  भी  हम  इसे  सफल  नहीं  बना  पाए .

यह  एक  शाश्वत  सत्य  है  कि  सम्पूर्ण  ब्रह्माण्ड में  हम  जिस  चीज  पर  ध्यान  केन्द्रित  करते  हैं  उस  चीज  में  आश्चर्यजनक  रूप  से  विस्तार  होता  है . इसलिए  सफल  होने  के  लिए  हमें  अपने  चुने  हुए  लक्ष्य   पर  पूरी  तरह  से  focussed होना  होगा ; और  तभी  हम  उसे  हकीकत  बनते  देख  पायेंगे .

Focus करने  का  क्या अर्थ  है ?

एक  idea लो  . उस  idea को  अपनी  life बना  लो – उसके  बारे  में  सोचो  उसके  सपने  देखो , उस  idea को  जियो  . अपने  दिमाग , muscles, nerves, शरीर  के  हर  हिस्से  को  उस  आईडिया  में  डूब  जाने  दो , और  बाकी  सभी  ideas को  किनारे  रख  दो . यही सफल  होने  का  तरीका  है , यही  वो  तरीका  है  जिससे  महान  लोग  निर्मित  होते  हैं .

Friends, उपरोक्त  कथन Swami  Vivekananda के  हैं  और  मुझे  लगता  है  कि  Focus शब्द को  शायद  ही  इससे  अच्छे  ढंग  से  समझा  जा  सकता  है .

इस कथन में जहाँ स्वामी जी ने  किसी एक आईडिया को अपनाना आवश्यक बताया  है वहीँ दूसरी तरफ इस दौरान अन्य ideas को किनारे रखने के लिए भी कहा है. और सही मायने में यही है Focussed होना.

Focus करता  क्या  है  ?

आपने  बचपन  में  lens ज़रूर use किया  होगा ….lens देखने  में  तो  एक  साधारण  कांच  का  टुकड़ा  लगता  है …पर  जब  हम  उसे  कागज़  के  किसी  एक  हिस्से  पर  focus करते   हैं  तो  थोड़ी  देर  में  वो  कागज़  जलने  लगता  है …..

Focus  चीजों  को  संभव  बनाता  है ….जब  आप  भी  अपने  goal पर  focused रहते  हैं  तो  मार्ग  में  आने  वाली  बाधाएं   जल  कर  ख़ाक  हो  जाती  हैं , आपका  रास्ता  साफ़  हो  जाता   है , और  आप  अपना  goal achieve कर  पाते  हैं . Focus आपको  सिर्फ  यह  नहीं  बताता  कि  करना  क्या  है  , यह  भी  बताता  है  कि  क्या  नहीं  करना  है .Focus आपको  आपके  goal से  बांधता  ही  नहीं  , आपको   बेकार  की  चीजों  में  बंधने  से  बचाता  भी  है .

तो  क्या  focus करने  का  ये  मतलब  है  कि  हम  और  कोई  काम  करे  ही  नहीं ? 

नहीं , आप  और  काम  करते  हुए  भी  अपना  focus किसी  एक  चीज  पर  बनाये  रख  सकते  हैं . For example:Mahendra Singh Dhoni  Railways में  TTE की  job करते  थे  पर  फिर  भी  उनका  focus cricket था . आप  रोज  TV पर  कितने  ही  singers और  dancers को  देखते  हैं , वो  भी  और  लोगों  की  तरह  पढने  जाते  हैं  या  job करते  हैं  पर  उनका  focus तो  singing या  dancing होता  है .

देखिये , जब  तक  आपके  मन  का  काम  आपको  financially support नहीं  करने  लगता  तब  तक  कुछ  ना  कुछ  तो  करते  रहना  होगा ….पर  ध्यान  देने  की  बात  ये  है  कि  आपको  और  चीजों  को  सिर्फ  करना  है …पर  आपने  अपने  लिए  जो  Goal decide किया  है  उसे  achieve करने  के  लिए  आपको  उसमे  डूबना  है , और  यही  आपकी  success और  failure के  बीच  का  सबसे  बड़ा  differentiator होगा.

इतना  याद  रखिये  कि  अपने  जीवन  में  एक  normal focussed व्यक्ति  एक  talented  unfocussed  व्यक्ति  से  कहीं  ज्यादा  achieve कर  सकता   है .  और  सच  पूछिए  तो  अगर  हमने  इस  अनमोल  जीवन  को  छोटी – मोटी  चीजें  करने  में  ही  बिता  दिया  तो  हमारे  life की  कोई  value नहीं  रहेगी …..हमारी  अपनी  नज़रों  में  भी ….इसलिए बड़े लक्ष्य बनाइये  और  उस  पर  focussed होकर  उसे  achieve करिए ….तभी  जीने  का  असली  मजा  है .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here